सिंधु घाटी सभ्यता (हड़प्पा सभ्यता )

सिंधु घाटी सभ्यता (sidhu ghati sabhyata)

इस सभ्यता के लिए साधारणत: तीन नामों का प्रयोग होता है – सिंधु सभ्यता ,सिंधु घाटी की सभ्यता और हड़प्पा सभ्यता

दजला- फरात और नील घाटी सभ्यताओं की समकालीन यह सभ्यता अपने विशिष्ट नगर नियोजन और जल निकासी व्यवस्था के लिए प्रसिद्ध है ।

सन् 1921 में भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग के महानिदेशक सर जॉन मार्शल के निर्देशन में रायबहादुर साहनी ने पंजाब (वर्तमान पाकिस्तान ) के मोंटगोमरी जिले में रावी नदी के तट पर स्थित हड़प्पा का अन्वेक्षण किया ।

जॉन मार्शल ने सर्वप्रथम इसे सिंधु सभ्यता का नाम दिया ।

रेडियो कार्बन -14 (C-14) जैसी नवीन विश्लेषण पद्धति के द्वारा हड़प्पा सभ्यता की तिथि 2500 ई. पू. से 1750 ई. पू. मानी गयी है ।

स्टुअर्ट पिगट ने हड़प्पा एवं मोहनजोदड़ो को एक विस्तृत साम्राज्य की जुड़वा राजधानीयाँ बताया है ।

sidhu ghati sabhyata
sidhu ghati sabhyata

भौगोलिक विस्तार –

वर्तमान में इस सभ्यता के पुरास्थल हमें पाकिस्तान के पंजाब, सिंध एवं बलूचिस्तान प्रांतों में तथा भारत के जम्मू-कश्मीर ,पंजाब, हरियाणा ,उत्तर प्रदेश ,राजस्थान, गुजरात एवं महाराष्ट्र प्रांतों में मिले हैं ।

पाकिस्तान

पंजाबहड़प्पा ,गनेरीवाल, सरायखोला, जलीलपुर
सिंधमोहनजोदड़ो चन्हूदडों,कोटडीजी
बलूचिस्तानसुत्कागेनडोर, सुत्काकोह,बालाकोट

 भारत

जम्मू कश्मीरमाण्डा
पंजाबरोपड़़, संघोल ,कोटलानिहंग
हरियाणासीसवाल ,बाणावली, मिताथल ,राखीगढ़ी
उत्तर प्रदेशअलमगीरपुर(मेरठ), हुलास (सहारनपुर )
राजस्थानकालीबंगा
गुजरातलोथल, सुरकोटड़ा, धोलावीरा ,मालवण ,भगतराव, रंगपुर ,रोजड़ी

हड़प्पा सभ्यता के महत्त्वपूर्ण स्थल-

नगर वर्षनदी खोजकर्ता 
हड़प्पा1921रावीदयाराम साहनी
मोहनजोदड़ो1922सिंधुराखलदास बनर्जी
चन्हूदडो़1931सिन्धुगोपाल मजूमदार
कालीबंगा1953घग्घरबीबी लाल,बीके थापर
कोटदीजी1953सिन्धुफजल अहमद
रंगपुर1953-54मादररंगनाथ राव
रोपड़1953- 56सतलजयज्ञदत्त शर्मा
लोथल1955, 1962भोगवारंगनाथ राव
आलमगीरपुर1958हिन्डनयज्ञदत्त शर्मा
सुतकांगेडोर1927,1962दाश्कऑरेज स्टाइल, जार्ज डेल्स
बनवाली1974रंगोईरविंद्र सिंह बिष्ट
धौलावीरा1990-91—-रविंद्र सिंह बिष्ट

सिंधु घाटी सभ्यता के प्रमुख स्थल- (sidhu ghati sabhyata place)

1. मोहनजोदड़ो : मृतकों के टीले के नाम से प्रसिद्ध यह स्थल माण्टगोमरी जिला पंजाब (पाकिस्तान) में स्थित है । विशाल स्नानागार यहां की सबसे बड़ी इमारत है । यह सबसे बड़ा सिंधु कालीन स्थल है ।

2. बनवाली : हरियाणा के हिसार जिले में स्थित इस पुरास्थल की खोज R.S विष्ट ने 1973 में की थी । यहां जल निकास प्रणाली का अभाव है ।

3. कोटदीजी : यह स्थल सिंध प्रांत के खैरपुर में स्थित है । यहां प्राक् हड़प्पा संस्कृति की अवस्था दृष्टिगोचर होती है जहां पत्थरों का इस्तेमाल होता था ।

4. धोलावीरा : यह गुजरात के कच्छ जिले में स्थित है । यह भारत का सबसे बड़ा व भारतीय उपमहाद्वीप का चौथा विशाल सिंधु घाटी सभ्यता स्थल है । इसकी नगर योजना अन्य स्थलों से भिन्न है ,क्योंकि यह तीन भागों में विभक्त है ।

5. देसलपुर : स्वतंत्रता के पश्चात 1963 -64 में गुजरात के कच्छ में खोजा गया स्थल है ।

6. सुरकोटड़ा : 1972- 75 में जगपती जोशी द्वारा गुजरात के कच्छ में खोजा गया सिंधु कालीन स्थल है । इस स्थल के अंतिम स्तर पर घोड़े की अस्थियां मिली है ,जो किसी भी अन्य हड़प्पा कालीन स्थल से प्राप्त नहीं हुई है ।

7. लोथल : अहमदाबाद जिले में भोगवा नदी के तट पर स्थित इस स्थल की खोज डॉ एस. आर. राव ने 1957 में की थी । यहां सिंधु घाटी का सबसे बड़ा बंदरगाह था ।

8. मांड : चिनाब नदी के तट पर जम्मू कश्मीर में स्थित उत्तरी स्थल है । यहां से त्रिस्तरीय संस्कृति के अवशेष मिले हैं ।

9. आमरी : वर्तमान समय में यह पाकिस्तान के सिंध प्रांत में स्थित है । आमरी के निक्षेपों से प्राचीन सिन्ध-पर्व सभ्यता और परवर्ती सैन्धव संस्कृति के मध्य का संक्रमण- युग दिखाई देता है ।

10. चन्हुदड़ो : मोहनजोदड़ो से 80 मील दक्षिण में स्थित इस स्थल की सर्वप्रथम खोज 1931 में एमजी मजूमदार ने की थी । यहां झूकर संस्कृति के अवशेष मिले हैं । यहां से व्रकाकार ईटें मिली है ,जो अन्य स्थलों से नहीं मिली है ।

11. रंगपुर : यह स्थल अमदाबाद जिले में स्थित है । यहां धान की भूसी के ढेर ,कच्ची ईटों के दुर्ग ,नालियां ,मृदभांड ,पत्थर के फलक आदि मिले हैं ।

12. आलमगीरपुर : वर्तमान समय में आलमगीरपुर उत्तर प्रदेश में मेरठ के समीप स्थित हैं । यह सैन्धव सभ्यता का पूर्वी स्थल है । यहां से उत्तर हड़प्पा सभ्यता के साक्ष्य भी मिले हैं । यहां कपास के उत्पादन के प्रमाण मिले हैं ।

13. दैमाबाद : यह महाराष्ट्र में स्थित सिंधु सभ्यता का दक्षिणत्तम स्थल है । यहां से ताम्र पाषाण कालीन संस्कृति के अवशेष भी मिले हैं ।

महत्वपूर्ण तथ्य :-

(1) सिन्धु अथवा हड़प्पा सभ्यता की खोज 1921- 22 ईसवी में दयाराम साहनी द्वारा की गयी ।

(2) यह सभ्यता पूर्णत: नगरीय थी ।

(3) इस सभ्यता का क्षेत्रफल 13 लाख वर्ग किलोमीटर है ।

(4) यह सभ्यता अपने विशिष्ट नगर नियोजन और जल निकासी व्यवस्था के लिए प्रसिद्ध है ।

(5) सिंधु सभ्यता में अभिलेख युक्त मुहरें सर्वाधिक हड़प्पा में मिली है ।

(6) हड़प्पा के सामान्य आवास क्षेत्र के दक्षिण में एक ऐसा कब्रिस्तान स्थित है जिसे समाधि R-37 नाम दिया गया है ।

(7) जूते हुए खेत के साक्ष्य कालीबंगा से प्राप्त हुए हैं ।

(8) धातु निर्मित मूर्तियों में सर्वाधिक महत्वपूर्ण मोहनजोदड़ो से प्राप्त एक नर्तकी कांस्य मूर्ति है ।

(9) लोथल से एक ऐसी कब्र प्राप्त हुई है जिसमें दो शव एक दूसरे से लिपटे हुए हैं ।

(10) हड़प्पा से प्राप्त मुद्रा पर गरुड़ का अंकन मिला है ।

(11) हड़प्पा से प्राप्त भंडार घर का प्रमुख प्रवेश द्वार नदी की ओर था ।

(12) स्वतंत्रता प्राप्ति पश्चात हड़प्पा संस्कृति के सर्वाधिक स्थल गुजरात में खोजे गए हैं ।

(13) अग्निकुंड लोथल एवं कालीबंगा से प्राप्त हुए हैं ।

(14) सिंधु सभ्यता की लिपि भावचित्रात्मक है ।

(15) सिंधु सभ्यता में मुख्य फसल गेहूं और जौ है ।

(16) सिंधु वासी मिठास के लिए शहद का प्रयोग करते थे ।

(17) मिट्टी से बने हल का साक्ष्य बनवाली से मिला है ।

(18) सिंधु सभ्यता में मातृ देवी की उपासना सर्वाधिक प्रचलित थी ।

(19) पशुओं में कूबड़ वाला सांड सभ्यता के लोगों के लिए विशेष पूजनीय था ।

(20) सिंधु घाटी के लोग तलवार से परिचित नहीं थे ।

(21) पर्दा प्रथा एवं वेश्यावृत्ति सिंधु सभ्यता में प्रचलित थी ।

(22) आग में पक्की हुई मिट्टी को टेराकोटा कहा जाता है ।

(23) सिंधु सभ्यता में सूती वस्त्रों के प्रमाण प्राप्त हुए हैं ।

sidhu ghati sabhyata in Hindi PDF

इन्हें भी देखें :-

प्राचीन भारत का इतिहास नोट्स

Leave a Reply

error: Content is protected !!
Scroll to Top