समास- अर्थ, परिभाषा, भेद, उदाहरण सहित

Hindi Grammer Vyakaran

समास (Samas) शब्द सम् + आस शब्द से मिलकर बना है , जिसका अर्थ है – शब्दों के परस्पर निकट बैठने से उत्पन्न व्यापक अर्थ ‘

समास का तात्पर्य है “संक्षिप्तीकरण”

दो या दो से अधिक शब्दों (पदों) के परस्पर संयोग को समास कहते हैं ।

दो या दो से अधिक शब्दों को मिलाकर एक नया शब्द बनाते हैं तो उस मेल को समास कहते है ।

उदाहरण :

विद्यामंदिर- विद्या का मंदिर
रामकृष्ण – राम और कृष्ण

परस्पर संबंध बताने वाले समास युक्त शब्द को समास पद या समस्त पद कहते हैं , जबकि इनको अलग- अलग करने की पद्धति समास विग्रह कहलाती है ।

samas
samas

 

समास के भेद (प्रकार)- Types of Samas in Hindi Grammar

Samas Ke Bhed: समास के निम्नलिखित 6 भेद होते हैं –

1) अव्ययीभाव समास ( Adverbial compound)
2)तत्पुरुष समास (Determinative Compound)
3)द्विगु समास ( Numeral Compound)
4)द्वंद्व समास (Dialectic Compound)
5)कर्मधारय समास (Appositional Compound)
6)बहुव्रीहि समास ( Attributive Compound)

1) अव्ययीभाव समास ( Avyayibhav Samas)

उपसर्ग एवं अव्यय से उत्पन्न होने वाले समस्त पद अव्ययीभाव समास कहलाते हैं ।

उदाहरण : –

प्रतिदिन – दिन दिन
प्रतिवर्ष – वर्ष वर्ष
यथाविधि- विधि के अनुसार
यथाशक्ति – शक्ति के अनुसार
अभियोग – योग के योग्य
प्रत्येक – एक एक
आजन्म – जन्म पर्यंन्त
आज्ञानुसार – आज्ञा के अनुसार
आमरण – मरण तक
प्रतिपल – हर पल
अनजाने – बिना जानकार
भरपेट – पेट भरकर

2) तत्पुरुष समास ( Tatpurush Samas)

जिस समास में पहले पद की विभक्ति का लोप हो और दूसरा पद प्रधान हो , उसे तत्पुरुष समास कहते हैं ।

इसमें कर्ता और संबोधन कारक को छोड़कर शेष छ: कारक चिन्ह का प्रयोग होता है – कर्म कारक, करण कारक, सम्प्रदान कारक ,अपादान कारक, सम्बंध कारक, अधिकरण कारक

उदाहरण :-

कर्म तत्पुरुष (को) –

मुँहतोड़ – मुँह को तोड़ने वाला
नरभक्षी – नरों को भक्षित करने वाला
शरणागत -शरण को आया हुआ
सर्वज्ञ – सर्व को जानने वाला
पक्षधर – पक्ष को धारण करने वाला
गगनचुंबी – गगन को चूमने वाला
यशप्राप्त – यश को प्राप्त
कमरतोड़ – कमर को तोड़ने वाला

करण तत्पुरुष (से,द्वारा)

रेखांकित – रेखा के द्वारा अंकित
शोकाकुल – शौक से आकुल
मदमत्त – मद से मत्त हुआ
सूरकृत – सूर द्वारा कृत
हस्तलिखित – हस्त द्वारा लिखित
मदांध – मद से अंधा
रत्नजड़ित – रत्न से जड़ित
वयोवृद्ध – उम्र से बुड्ढा

सम्प्रदान तत्पुरुष (के लिए )

गौशाला – गो के लिए शाला
विद्यालय – विद्या के लिए आलय
कारागृह – कारा के लिए गृह
मालगोदाम – माल के लिए गोदाम
विधानसभा – विधान के लिए सभा
शपथपत्र – शपथ के लिए पत्र
न्यायालय – न्याय के लिए आलय

अपादान तत्पुरुष (से )

जन्मांध – जन्म से अंधा
पदच्युत – पद से च्युत
नेत्रहीन – नेत्र से हीन
ऋणमुक्त – ऋण से मुक्त
राजद्रोह -राजा से द्रोह
सेवानिवृत्त – सेना से निवृत

सम्बन्ध तत्पुरुष (का ,के ,की )

राजसभा – राजा की सभा
सेनापति – सेना का पति
भूकंप – भू का कंप
रामचरित- राम का चरित्र
कन्यादान – कन्या का दान
रघुवंश – रघु का वंश

अधिकरण तत्पुरुष (में ,पर )

कविराज – कवियों में राजा
मुनिश्रेष्ठ – मुनियों में श्रेष्ठ
ग्रामवास – ग्राम में वास
वनवास – वन में वास
कर्माधीन – कर्म पर आधीन
आपबीती- अपने पर बीती
सिरदर्द – सिर में दर्द

3) द्विगु समास ( Dvigu Samas)

जिस समास में पहला पद संख्यावाचक होता है, वहाँ द्विगु समास होता है । इस समास में विग्रह करते समय संख्यावाचक शब्द के साथ ‘समूह’ लिखना पड़ता है ।

उदाहरण :-

दोपहर – दो पहरों का समूह
चतुर्वेद – चार वेदों का समूह
त्रिभुवन – तीन भुवनों का समूह
सप्तर्षी – सात ऋषियों का समूह
नवरात्र – नौ रात्रों का समूह
शताब्दी – सौ अब्दों (वर्षों) का समय
पंचवटी – पाँच वृक्षों का समूह
त्रिलोकी – तीन लोकों का समूह
त्रिफला – तीन फलों का समूह
अठन्नी – आठ आनों का समूह
सप्तसिन्धु – सात सिन्धुओं का समूह

4) द्वंद्व समास ( Dvandva Samas)

इस समास में दोनों पद समान रूप से प्रधान होते हैं और उनके बीच में “या” अथवा “और” शब्द का लोप हो जाता है ।

उदाहरण :-

अन्न-जल – अन्न और जल
दिन- रात – दिन और रात
धर्माधर्म – धर्म और अधर्म
गुण- दोष – गुण और दोष
राधा- कृष्ण – राधा और कृष्ण
पच्चीस – पाँच और बीस
हरिहर – हरि और हर
लाभालाभ – लाभ या अलाभ
शीतोष्ण – शीत और उष्ण

5) कर्मधारय समास ( Karmadharaya Samas)

जिस समास में पहला पद विशेषण तथा दूसरा पद विशेष्य हो उसे कर्मधारय समास कहते हैं ।

उदाहरण :-

नीलकमल- नीला है जो कमल
सर्वोत्तम – सर्व में है जो उत्तम
महापुरुष – महान है जो पुरुष
चरणकमल -चरण जैसे कमल
महात्मा – महान है जो आत्मा
मुखचंद्र – मुख रूपी चंद्रमा
कमलनयन – कमल के समान नयन
महर्षि – महान है जो ऋषि
विद्याधन – विद्या रूपी धन
शिष्टाचार – शिष्ट है जो आचार
नवयुवक – नव है जो युवक
पूर्णांक – पूर्ण है जो अंक

6) बहुव्रीहि समास ( Bahuvrihi Samas)

जहां कोई पद प्रधान न हो और समस्त पद के दोनों शब्द मिलकर कोई नया अर्थ निकलता हो उसे बहुव्रीहि समास कहते हैं ।

उदाहरण :-

चतुरानन- चतुर है आनंद जिसके वह (ब्रह्मा)
वीणापाणी- वीणा है पाणि में जिसके वह (सरस्वती )
दशानन – दश है आनन जिसके (रावण )
लंबोदर – लंबा है उदर जिसका (गणेश )
घनश्याम- घन के समान श्याम (कृष्ण )
षडानन – छ: है आनंद जिसके (कार्तिकेय )
त्रिनेत्र – तीन नेत्र हैं जिनके (शंकर )
वज्रपाणि – वज्र है जिनके पाणी में (इंद्र )
मनोज – मन से उत्पन्न होता है जो (कामदेव )
हलधर – वह जो हल को धारण करता है (बलराम )
पीताम्बर- पीत हैं अम्बर जिसके ( विष्णु )

Leave a Reply

error: Content is protected !!
Scroll to Top