मुगल प्रशासन ( Mughal Administration)

मुगल प्रशासन व्यवस्था

मुगल सम्राट सम्राज्य का प्रमुख होने के साथ ही सेना का प्रधान,न्याय व्यवस्था का प्रमुख, इस्लाम का रक्षक और मुस्लिम जनता का आध्यात्मिक नेता होता था । शासन में अपनी सहायता के लिए बादशाह विभिन्न मंत्रियों की नियुक्ति करता था । प्रत्येक मंत्री का अपना पृथक कार्यालय होता था ।मुगल काल में निम्न विभाग व मंत्री कार्यारत थे-

मुगल प्रशासन
मुगल प्रशासन

केंद्रीय प्रशासन –

🔹वकील या प्रधानमंत्री – वह सम्राट को सलाह देने के साथ ही प्रशासन के सभी विभागों का निरीक्षण करता था । वकील को वजीर- ए-आला या वकील- ए-मुतलक के नाम से भी जाना जाता था । वकील को राजस्व व वित्तीय मामलों पर एकाधिकार था ।

🔹दीवान-ए-कुलअकबर द्वारा वकील पद को समाप्त कर स्थापित पद जो वित्त व राजस्व का सर्वोच्य अधिकारी था । उसकी सहायता हेतु दीवान- ए-खालसा, दीवान- ए-तन व मुस्तौफी होते थे ।

🔹मीर बक्शी या सेनापति – मुगल काल में सैनिक विभाग के मुखिया को “मीर बख्शी” कहा जाता था।

🔹मीर-ए-समाँन – बादशाह के घरेलू व व्यक्तिगत मामलों का प्रधान होता था ।

🔹सद्र-उस-सूद्र – वह दान संपत्ति का निर्णायक, निरीक्षक एवं सम्राट का धार्मिक सलाहकार होता था । छात्रवृत्तियों का निर्धारण करना, शिक्षण संस्थाओं को भूमि दान करना, दान- पुण्य की व्यवस्था करना उसका प्रमुख कर्तव्य था ।

🔹काजी-उल-कुजात – यह प्रधान काजी था व न्याय विभाग का प्रमुख होता था ।

🔹मीर-ए-आतिरा – तोपखाने का अधीक्षक होता था ।

🔹मुहतसिब – इनका प्रमुख कार्य शरीयत के विरुद्ध कार्य करने वालों को रोकना तथा प्रजा के नैतिक स्तर को ऊंचा उठाना था ।

🔹दरोगा-ए-डाक चौकी – मुगल काल में गुप्तचर व डाक विभाग का प्रमुख होता था ।

मुगलकालीन अन्य अधिकारी –

🔹दीवानी ए तन – युद्ध समय को छोड़कर सेना को वेतन देने का कार्य करता था ।

🔹वाकिया-नवीस – समाचार लेखक था ।

🔹वतिकच्ची – दरबार की घटनाओं को लिखने के साथ-साथ प्रांतों की भूमि एवं लगान संबंधी कागजात तैयार करता था ।

🔹मुशरिफ – प्रमुख लेखाधिकारी जो राज्य की आय-व्यय का लेखा-जोखा रखता था ।

🔹मुस्तौफी – यह मुशरिफ द्वारा तैयार आय-व्यय के लेखा-जोखा की जाँच करता था ।

🔹दरोगा-ए-टकसाल – राजकीय टकसाल पर नियंत्रण व उसके संचालन करने का कार्य ।

🔹मीर-ए-बर्र – यह वन विभाग का प्रमुख था ।

🔹मीर-ए-बहर – नाविक विभाग व बंदरगाहों का प्रमुख होता था ।

प्रांतीय शासन व्यवस्था –

बाबर व हुमायूँ के शासनकाल में शासन की प्रांतीय व्यवस्था विकसित नहीं हो पाई थी । उस समय साम्राज्य जागीरो में बंटा हुआ था । मानक प्रांतीय प्रशासन के विकास का श्रेय अकबर को जाता है ।

सन् 1580 में सम्राट अकबर द्वारा मुगल साम्राज्य को सूबों में विभाजित किया गया । सूबों में प्रमुख अधिकारी सूबेदार, प्रांतीय दीवान, प्रांतीय बक्शी, प्रांतीय सद्र व कोतवाल थे ।

अकबर के शासन के प्रारंभ में सूबों की संख्या 12 थी । उसके शासन के अंतिम वर्षों में सूबों की संख्या 15, जहांगीर के समय 17, शाहजहाँ के समय 18, औरंगजेब के समय 20 थी ।

🔸सूबेदार – यह प्रांत का सर्वोच्च अधिकारी था । इसे प्रांत के संपूर्ण सैनिक व असैनिक अधिकार प्राप्त थे । इसे सूबेदार, नाजिम या सिपहसालार ( गवर्नर) के नाम से भी जाना जाता था ।

🔸प्रांतीय दीवान – यह प्रांत में अर्थ विभाग का संचालक होता था । इसका प्रमुख कार्य आय-व्यय का लेखा-जोखा रखना तथा राजस्व संबंधित मुकदमों का निर्णय करना था ।

🔸प्रांतीय कोतवाल – प्रांत के प्रमुख नगरों और राजधानियों की सुरक्षा एवं पुलिस प्रबंधन के लिए कोतवाल नाम का विशेष अधिकारी था । यह नगर पुलिस का प्रधान होता था ।

🔸प्रांतीय बक्शी – सूबे की सेना की देखभाल करना ।

🔸वाकिया-ए-नवीस – सूबे के गुप्तचर विभाग का प्रधान ।

जिला शासन व्यवस्था –

मुगल प्रशासन में सूबों को जिला या सरकार में बांटा गया था । यहां के प्रमुख अधिकारी फौजदार (सैनिक प्रमुख ) व अमालगुजार (अर्थ विभाग ) थे । अमालगुजार को करोड़ी भी कहा जाता था जो कि बतिकची (लिपिक ) व खजानदार के माध्यम से कार्य करता था ।

परगने का शासन – सरकार से नीचे की ईकाई परगना थी । सरकार कई परगनों में विभक्त होता था । शिकदार प्रमुख अधिकारी या जिसके कर्तव्य फौजदार के समान होते थे । परगने का दूसरा प्रमुख अधिकारी आमिल था जो परगने का अर्थ मंत्री था । इसके अलावा कानूनगो व पटवारी प्रमुख अधिकारी होते थे ।

ग्राम प्रशासन – प्रशासन की सबसे छोटी ईकाई ग्राम थी । गांव का प्रशासन मुकद्दम, पटवारी व चौकीदार देखते थे । ग्राम प्रधान को खुत, मुकद्दम या चौधरी के नाम से भी जाना जाता है ।

मुगलकालीन सेना – मुगल सेना दशमलव प्रणाली पर संगठित थी , जिसमें इरानी, तुरानी, अफगानी, भारतीय मुसलमान व मराठों को सम्मिलित किया गया था । मुगल में अहदी सैनिक व दाखिली सैनिक होते थे । मुगलकालीन सेना विभिन्न भागों में बंटी हुई थी –

(१) घुड़सवार सेना – इसमें मुख्यतः दो प्रकार के सैनिक थे । बरगीर ( जिन्हें घोड़े ,अस्त और शस्त्र राज्य की ओर से मिलते थे ) और सिलेदार ( जो अपने शस्त्र और घोड़े स्वयं लाते थे )

(२) पैदल सेना – पैदल सेना भी दो भागों में भर्ती थी । बन्दूकची व शमशीर बाज (तलवार बाज )।

(३) हाथी सेना
(४) तोपखाना
(५) नौ-सेना – मुगलों ने पश्चिमी समुद्र तट की रक्षा का भार अबीसिनिया और जंजीरा के सिद्दियों को दे रखा था व पूर्व में बंगाल में एक नाविक बेड़ा रखा था ।

मुगलकालीन मनसबदारी व्यवस्था –

बादशाह अकबर ने प्रशासन में मनसबदारी व्यवस्था प्रारंभ की । मनसबदारी पद्धति के माध्यम से अकबर ने अमीर वर्ग,सिविल अधिकारी एवं सैन्य अधिकारी सभी को एक दूसरे से जोड़ने का प्रयास किया था ।

मुगल मनसबदारी व्यवस्था मध्य एशिया से ग्रहण की गई थी व यह मंगोलों के दशमलव सिद्धांत पर आधारित थी । प्रत्येक मनसबदार का रैंक 2 अंकों का होता था । प्रथम अंक जात रेंक तथा द्वितीय अंक सवाट रैंक का बोधक था ।

इसमें जात व सवार का प्रयोग किया जाता था । इसमें जात शब्द से व्यक्ति के वेतन तथा पद के अनुक्रम में उसकी स्थिति तय होती थी । जबकि सवार शब्द से घुड़सवार दस्ते की संख्या का पता चलता था ।

सरदारों की विभिन्न श्रेणियों थी –

🔹10 जात से 500 जात तक के ➡ मनसबदार
🔹500 जात से 2500 जात तक के ➡ अमीर
🔹2500 जात से ऊपर ➡ अमीर-उल-उम या अमीर-ए-आजम कहलाते थे ।

सवार श्रेणी के आधार पर 5000 और उसके नीचे के मनसबदारों को तीन श्रेणी में विभाजित किया जाता था –

🔹प्रथम श्रेणी – सवार रैंक, जात रैंक के बराबर ।
🔹दितीय श्रेणी – सवार रैंक, जात रैंक से आधा या कुछ अधिक ।
🔹तृतीय श्रेणी – सवार रैंक, जात रैंक के आधे से कम ।

जहांगीर ने मनसबदारी में ‘दुह अस्पा‘ व ‘सिंह-अस्पा’ प्रथा को चलाया । दुह अस्पा में मनसबदारों को अपने सवार पद से दुगने सवार रखने होते थे व सिंह-अस्पा में सवार पद के 3 गुने सवार रखने पड़ते थे ।

इजारेदारी – इजारेदारी व्यवस्था का प्रचलन सर्वप्रथम जागीर भूमि से हुआ । जागीरदारी व्यवस्था आवश्यक रूप से मनसबदारी पद्धति से संबद्ध थी । बड़े मनसबदारों को वेतन जागीर के रूप में दिया जाता था । जागीर से प्राप्त होने वाला राजस्व से संबंधित मनसबदार का वेतन होता था ।

मुगल प्रशासन सैन्य शक्ति पर आधारित एक केंद्रीकृत व्यवस्था थी, जो नियंत्रण एवं संतुलन पर आधारित थी ।

मंत्री परिषद् को विजारत कहा जाता था ।

मुगल साम्राज्य ➡ सूबा ➡ सरकार (जिला)➡ परगना ➡ दस्तूदर ग्राम ( मावदा या दीह )➡ नागला (छोटी बस्ती )

Leave a Reply

error: Content is protected !!
Scroll to Top