वृहत्तर भारत : बाहरी विश्व से भारत का राजनीतिक एवं सांस्कृतिक संबंध

वृहत्तर भारत

  वृहत्तर भारत का इतिहास

 बाहरी विश्व के साथ भारत का सांस्कृतिक संबंध

 भारत का विदेशों के साथ राजनीतिक एवं सांस्कृतिक संबंध अत्यंत प्राचीन काल से ही रहा है । भारत की भौगोलिक स्थिति में विदेशी संपर्क की स्थापना में बहुत अधिक सहायता पहुंचाई ।

भारत में विदेशी आक्रमणकारी, विजेता, व्यापारी सदैव आते रहे हैं । इस प्रकार भारतीय व्यापारियों, धर्म प्रचारकों तथा उपनिवेशकों ने विदेशों में अपने उपनिवेश स्थापित किए और वहाँ भारतीय सभ्यता एवं संस्कृति का प्रचार किया ।

भारत का संबंध मध्य एशिया व दक्षिणी- पूर्वी एशियाई देशों के साथ हुआ । यह संपूर्ण क्षेत्र वृहत्तर भारत के नाम से जाना जाता है ।

वृहत्तर भारत
वृहत्तर भारत

🔸वृहत्तर भारत में मध्य एशिया, तिब्बत, चीन व दक्षिण-पुर्वी देशों की गणना की जाती है ।

🔸मध्य एशिया में काश्गर,यारकन्द,खेतान, कूची, कारा शहर आदि देश आते हैं ।

🔸कूची व दक्षिण खेतान भारतीय संस्कृति के प्रमुख केंद्र थे ।

🔸खेतान का गौतमी विहार मध्य एशिया का सबसे बड़ा विहार हैं । यहाँ महायान बौद्ध धर्म का अधिक प्रचार था ।

🔸453 ईसवी में धर्मक्षेत्र नामक बौद्ध विद्वान चीन से महापरिनिर्वाण सूत्र की पांडुलिपि की खोज में खोतान आया था ।

🔸मध्य एशिया के उत्तर में स्थित कूची भी बौद्ध सभ्यता का प्रमुख केंद्र था ।

🔸बौद्ध धर्म के प्रचार से श्रीलंका, बर्मा, चीन और मध्य एशिया के साथ भारत के संपर्क बढ़े । अशोक के शासनकाल में बौद्ध प्रचारक श्रीलंका भेजे गए ।

🔸ईसा की आरंभिक शती में बौद्ध का प्रचार भारत से बर्मा की ओर हुआ । बर्मी लोगों ने बौद्ध के थेरवाद रूप का विकास किया ।

🔸बर्मा और श्रीलंका ने बौद्ध मंदिरों व बुद्ध की मूर्तियों के अलावा समृद्ध बौद्ध साहित्य की भी रचना की ।

🔸प्राचीनकाल में बौद्ध धर्म के दो महान केंद्र अफगानिस्तान और मध्य एशिया थे ।

🔸अफगानिस्तान में बुद्ध की मूर्तियों और बौद्ध विहार पाए गए हैं । इस देश में उत्तर में स्थित बेग्राग और बामियान ऐसे अवशेषों के लिए प्रसिद्ध हैं ।

🔸बामियान में एक विशिष्ट बुद्ध मूर्ति है, जो पत्थरों से काटकर बनी बुद्ध मूर्तियों में सबसे लंबी है ।

🔸मौर्यों के पश्चात् भारत पर विदेशी आक्रमण हुए, जिनमें यूनानी, शक, पहलव, यूचि आदि का संबंध मध्य एशिया से भी था । जब ये भारतवर्ष के शासक बने तो इनके द्वारा भारतीय संस्कृति मध्य एशिया में पहुंची ।

🔸मध्य एशिया में स्तूप, विहार, भारतीय मूर्तियां, संस्कृति व पालि के ग्रंथ प्राप्त हुए हैं । यहाँ के लेखों की लिपि ब्राह्रीखरोष्ठी थी ।

🔸ह्यानवंशी शासक ने पश्चिम में अपने राजदूत भेजें , जो अपने साथ धर्मरत्न व काश्यप मांतग नामक दो बौद्ध भिक्षु ले गए , जिनके रहने के लिए “श्वेताश्व विहार” का निर्माण करवाया गया ।

🔸चीन के अनेक राजाओं ने बौद्ध धर्म को राजधर्म घोषित किया । ‘तांग’ काल को “चीन का बौद्ध काल” कहा गया ।

🔸मध्य एशिया के बौद्ध प्रचारक में धर्मरक्ष और कुमारजीव के नाम प्रमुख हैं ।

🔸अनेक चीनी यात्रियों ने बौद्ध ग्रंथों की प्रतियाँ लेने तथा पवित्र बौद्ध स्थलों के दर्शनार्थ भारत की यात्रा की जिनमें –फाह्यान, ह्नेनसांग तथा इत्सिंग प्रमुख हैं ।

🔸अजंता की गुहा चित्रों के समान तुल-हुआंग में गुहाचित्र बने । चीन के ‘पैगोडा’ भारतीय स्तूपों की नकल प्रतीत होते हैं ।

दक्षिण पूर्वी एशिया में भारतीय संस्कृति का प्रसार –

🔸दक्षिणी पूर्वी एशिया के देश इंडोनेशिया, जावा, चंपा, सुमात्रा, बाली, कंबोडिया, थाईलैंड, बर्मा आदि देशों में भारतीय संस्कृति का व्यापक प्रसार हुआ ।

🔸सुवर्णद्वीप : मलाया ➡ भारतीयों का प्रमुख उपनिवेश सुवर्णदीप (इंडोनेशिया) में स्थापित हुआ। इस क्षेत्र के द्वीपसमूह मलाया, जावा, सुमात्रा, बोर्नियों,बाली, मलक्का आदि में भारतीय राज्य की स्थापना हुई ।

🔸मलाया में हिंदू राज्य की स्थापना शैलेंद्र ने की ।

🔸शैलेंद्र साम्राज्य ने पाल एवं चोल शासकों के साथ मैत्री संबंध स्थापित किए ।

🔸शैलेंद्र शासकों ने हीनयानी बौद्ध धर्म को प्रश्रय दिया ।

🔸बोरोबुदर के विशाल बौद्ध मंदिरों का निर्माण आठवीं शताब्दी में शैलेंद्र शासकों ने करवाया जो कि विश्व का सबसे बड़ा बौद्ध मंदिर है ।

🔸जावा ➡ जावा में हिंदू राज्य की स्थापना चौथी शताब्दी में ही हो चुकी थी । परंतु आठवीं शताब्दी में जब शैलेंद्र साम्राज्य का उदय हुआ तब जावा भी उसके प्रभाव में आ गया । यहाँ का सबसे प्रसिद्ध राजा पूर्णवर्मन था । उसने ‘गोमती’ नहर कुदवाई । जावा में भारतीय संस्कृति, धर्म एवं कला का विकास हुआ ।

🔸सुमात्रा ➡ सुमात्रा में चौथी शताब्दी में श्रीविजय नामक राजा ने श्रीविजय सम्राज्य की स्थापना की।

🔸बाली और बोर्नियो ➡ बाली में हिंदू राज्य की स्थापना छठी शताब्दी में हुई । यहाँ कौण्डीय- वंश के शासकों का अधिकार था । यहाँ बौद्ध धर्म की प्रधानता रही ।

🔸मलक्का ➡ मलक्का के हिंदू राज्य की स्थापना 15 वीं शताब्दी में हुई ।

🔸सुवर्णभूमि : बर्मा व स्याम ➡ प्राचीन काल में बर्मा सुवर्ण भूमि के नाम से जाना जाता था । यहाँ भारतीय संस्कृति का प्रसार व्यापारी द्वारा हुआ ।

🔸फूनान ➡ कम्बुज या कंबोडिया को चीनी लोग “फूनान” कहते थे । पांचवी शताब्दी के आरंभ में रचित दक्षिणताई के इतिहास में “फूनान” हिंदू राज्य की स्थापना का उल्लेख है ।

🔸अन्नाम ➡ प्राचीन चंपा या अंगद्वीप का आधुनिक नाम अन्नाम है । यहाँ दूसरी सदी में श्रीमार ने हिंदू वंश की स्थापना की थी । यहाँ शैव धर्म का ज्यादा प्रभाव था । मैसन तथा पोनगर के मंदिर शिव को समर्पित है । चंपा में धार्मिक विकास की प्रमुख विशेषता सहिष्णुता थी ।

दक्षिण- पूर्वी एशिया के प्रमुख कला के केंद्र

🔹जावा ➡ बोरोबुदुर का बौद्ध स्तूप, अंकोरवाट का विष्णु मंदिर ।

🔹बर्मा➡ आनंद मंदिर पगान में स्थित ।

🔹चन्पा ➡ माइसेन व पोनगर के मंदिर ।

🔸कम्बोज स्थित अंकोरवाट के विष्णु मंदिर की स्थापना कम्बोज शासक सूर्यवर्मन (1113- 1114 ई.) ने की थी ।

🔸जावा वासियों द्वारा प्राचीन काल में भारतीय साहित्य के अनुकरण पर अपना एक विस्तृत साहित्य का निर्माण किया गया जिसे “इण्डो- जावाती” साहित्य कहा गया ।

🔸हिंद- चीन ➡ दक्षिण- पूर्व एशिया के अंतर्गत कंबोडिया, बर्मा, स्याम, मलय प्रायद्वीप, सामूहिक रुप से हिंद- चीन कहलाते थे । प्राचीन भारतवासी इस संपूर्ण क्षेत्र को सुवर्णभूमि या सुवर्णद्वीप के नाम से जानते थे ।

Leave a Reply

error: Content is protected !!
Scroll to Top