कुषाण वंश का सबसे प्रतापी राजा कौन था ?

कुषाण वंश का सबसे प्रतापी राजा कनिष्क था |

कनिष्क

🔸कुषाण वंश का सबसे प्रतापी राजा कनिष्क था ।

🔸इसकी राजधानी पुरुषपुर या पेशावर थी । कुषाणों की द्वितीय राजधानी मथुरा थी ।

🔸कनिष्क ने 78 ईसवी (गद्दी पर बैठने के समय ) में एक संवत् चलाया, जो शक- संवत कहलाता है ,जिसे भारत सरकार द्वारा प्रयोग में लिया जाता है ।

🔸बौद्ध धर्म की चौथी बौद्ध संगीति कनिष्क के शासनकाल में कुण्डलवन (कश्मीर) में प्रसिद्ध बौद्ध विद्वान वसुमित्र की अध्यक्षता में हुई ।

🔸कनिष्क बौद्ध धर्म के महायान संप्रदाय का अनुयायी था ।

🔸कनिष्क का राजवेद्य आयुर्वेद का विख्यात विद्वान चरक था, जिसने चरकसंहिता की रचना की ।

🔸महाविभाष सूत्र के रचनाकार वसुमित्र है। इसे ही बौद्ध धर्म का विश्वकोश कहा जाता है ।

🔸कनिष्क के राजकवि अश्वघोष ने बौद्धों का रामायण “बुद्धचरित” की रचना की ।

🔸वसुमित्र, पार्श्व, नागार्जुन, महाचेत और संघरक्ष भी कनिष्क के दरबार की विभूति थे ।

🔸भारत का आइंस्टीन नागार्जुन को कहा जाता है । इनकी पुस्तक माध्यमिक सूत्र ( सापेक्षता का सिद्धांत ) है ।

🔸ह्नेनसांग के विवरण एवं चीनी ग्रंथों से प्रकट होता है कि गांधार कनिष्क के अधीन था।

🔸कश्मीर पर अधिकार ‘राजतरंगिणी’ से प्रकट होता है । कनिष्क ने कश्मीर को जीतकर वहाँ कनिष्कपुर नामक नगर बसाया ।

🔸उसने काशगर, यारकन्द व खोतान पर भी विजय प्राप्त की ।

🔸महास्थान (बोगरा ) में पायी गयी सोने की मुद्रा पर कनिष्क की खड़ी मूर्ति अंकित है ।

🔸मथुरा जिले में कनिष्क की एक प्रतिमा मिली है । इस प्रतिमा में उसने घुटने तक चोगा और भारी बूट पहने हुए हैं ।

🔸गांधार शैली एवं मथुरा शैली का विकास कनिष्क के शासन काल में हुआ था ।

Leave a Reply

error: Content is protected !!
Scroll to Top