नोबेल पुरस्कार विजेताओं की सूची 2021

आज हम करंट अफेयर्स में “Nobel prize 2021 All Category in Hindi ” की बात करेंगे जो आपके आने वाले एग्जाम में इनमें से प्रश्न पूछे जाएंगे ।
Nobel prize 2021 All Category in Hindi
Nobel prize 2021 All Category in Hindi

नोबेल पुरस्कार 2021 विजेता सूची

क्षेत्र विजेता व उपलब्धि
चिकित्साइस वर्ष का चिकित्सा का नोबेल पुरस्कार अमेरिकी वैज्ञानिकों डेविड जूलियस और अर्डेम पैटापूटियन को दिए जाने की घोषणा की गई है । उन्हें तापमान और स्पर्श के लिए “रिसेप्टर” की खोज के लिए सम्मान दिया गया है ।
भौतिकीभौतिक विज्ञान के लिए वर्ष 2021 का नोबेल पुरस्कार स्यूकूरो मनाबे,क्लॉस हैसलमैन और जॉर्जियो पारिसी को देने का ऐलान किया है । इन्हें जटिल भौतिक प्रणालियों को समझने में उल्लेखनीय योगदान के लिए नोबेल पुरस्कार देने का फैसला लिया गया है ।
रसायनइस साल का नोबेल पुरस्कार जर्मनी के बेंजामिन लिस्ट और अमेरिका के डेविड मैकमिलन को दिया गया है । यह पुरस्कार दोनों को “एसिमैट्रिक ऑर्गेनकैटालिसस” के क्षेत्र में रिसर्च के लिए दिया गया है ।
साहित्यब्रिटेन में रहने वाले तंजानियाई लेखक अब्दुल रजाक गुरनाह को उपनिवेशवाद के प्रभावों और संस्कृतियों व महाद्वीपों के बीच की खाई में शरणार्थियों की स्थिति के करूणामय चित्रण को लेकर सम्मानित किया गया है ।
शांतिफिलीपीन की पत्रकार मारिया रसा और रूसी पत्रकार दमित्री मुरातोव को शुक्रवार को 2021 का नोबेल शांति पुरस्कार (Nobel Prize in Peace 2021)देने की घोषणा की गई । इन पत्रकारों को यह पुरस्कार उन देशों में अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के वास्ते संघर्ष करने के लिए दिया गया है जहां पत्रकारों को लगातार हमलों एवं प्रताड़ना का सामना करना पड़ता है जिसमें उनकी हत्या तक कर दी जाती है ।
अर्थशास्त्रनोबेल समिति ने डेविड कार्ड को श्रम अर्थशास्त्र में उनके प्रयोग सिद्धि योगदान के लिए पुरस्कार का आधा हिस्सा दिया और दूसरा आधा संयुक्त रूप से जोशुआ डी.एंग्रिस्ट और गुइडो डब्ल्यू इम्बेंल को कारण संबंधों के विश्लेषण में उनके मेथाडोलॉजिकल योगदान के लिए दिया गया ।

Nobel prize in medical 2021 (चिकित्सा में नोबेल पुरस्कार)

इस वर्ष का चिकित्सा का नोबेल पुरस्कार अमेरिकी वैज्ञानिकों डेविड जूलियस और अर्डेम पैटापूटियन को दिए जाने की घोषणा की गई है । उन्हें तापमान और स्पर्श के लिए “रिसेप्टर” की खोज के लिए सम्मान दिया गया है ।
noble award 2021 in medicine
noble award 2021 in medicine
इन रिसेप्टर से इंसान तापमान और स्पर्श को महसूस करता है । दोनों वैज्ञानिकों का अध्ययन “सोमैटोसेंसेशन” क्षेत्र पर केंद्रित था जो आंख, कान और त्वचा जैसे विशेष अंगों की क्षमता से संबंधित है । नोबेल पुरस्कार हासिल करने वाले वैज्ञानिकों ने दुनिया को बताया कि इंसान का जिस्म सूरज की गर्मी और अपनों को स्पर्श करने पर कैसे महसूस करता है । उन्होनें बताया कि किस तरह हमारा जिस्म संवेदना को विद्युतीय तंरग में बदल देता है और उसे संदेश के रूप में नर्वस सिस्टम यानी तंत्रिका तंत्र तक पहुंचाता है । प्रोफेसर डेविड जूलियस :- प्रोफेसर डेविड जूलियस ने यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोर्निया में मिर्च खाने पर जो जलन होती है, उस पर अनुसंधान किया । उन्होनें मिर्च की जलन के स्रोत केमिकल कैप्साइन पर प्रयोग किया । उन्होंने कैप्साइन पर प्रतिक्रिया देने वाले खास किस्म के रिसेप्टर यानी ग्राही ( कोशिकाओं का वो हिस्सा जो इसके इर्द-गिर्द की चीजों का पता लगाता है ) का पता लगाया । प्रोफेसर अर्डेम पैटापूटियन :- प्रोफेसर पैटापूटियन ने स्क्रिप्स रिसर्च इंस्टिट्यूट में कोशिकाओं से जुड़े अनुसंधान में जुटे थे । उन्होंने एक अलग किस्म के ग्राही का पता लगाया जो यांत्रिकी बल या स्पर्श के जरिए जाग जाता है । उन्होंने बताया कि किस तरह गर्मी, सर्दी या यांत्रिक बल तंत्रिका में संवेदना ला देता है जिससे हम अपने आसपास की दुनिया को समझते हैं और उनके अनुरूप ढल जाते हैं ।

Nobel prize in physics 2021( भौतिक विज्ञान के क्षेत्र में नोबेल पुरस्कार )

रॉयल स्वीडिश एकेडमी ऑफ साइंसेज ने भौतिक विज्ञान के लिए वर्ष 2021 का नोबेल पुरस्कार स्यूकूरो मनाबे,क्लॉस हैसलमैन और जॉर्जियो पारिसी को देने का ऐलान किया है । इन्हें जटिल भौतिक प्रणालियों को समझने में उल्लेखनीय योगदान के लिए नोबेल पुरस्कार देने का फैसला लिया गया है ।
Nobel prize 2021 in Physics
Nobel prize 2021 in Physics
मनाबे और हैसलमैन को पृथ्वी की जलवायु की भौतिक मॉडलिंग, ग्लोबल वार्मिंग की पूर्वानुमान के परिवर्तनशीलता और प्रमाणिकता के मापन के क्षेत्र में उनके कार्यों के लिए चुना गया । वहीं परिसी को परमाणु के ग्रहों के मानदंडों तक भौतिक प्रणाली में विकार और उतार-चढ़ाव के परस्पर क्रिया की खोज के लिए इस पुरस्कार के लिए चुना गया । स्यूकूरो मनाबे :- जापान के स्यूकूरो मनाबे (90) ने 1960 के दशक की शुरुआत में दर्शाया था कि वातावरण में कार्बन डाइऑक्साइड की मात्रा बढ़ने से वैश्विक तापमान किस तरह बढ़ेगा और इस तरह उन्होंने मौजूदा जलवायु मॉडलों की बुनियाद रखी थी । क्लॉस हैसलमैन :- जर्मनी के क्लॉस हैसलमैन (89) ने स्यूकूरो मनाबे के मॉडल के एक दशक बाद नया मॉडल बनाया जिसमें मौसम और जलवायु को जोड़ा गया । इससे यह समझने में मदद मिली कि मौसम की तेजी से बदलाव वाली प्रकृति के बाद भी जलवायु संबंधी मॉडल किस तरह प्रमाणिक हो सकते हैं । उन्होंने जलवायु पर मनुष्य के प्रभाव के विशेष संकेतों का पता करने के तरीके की भी खोजे । जॉर्जियो पारिसी :- इटली के जॉर्जियो पारिसी (73) ने एक गहन भौतिक और गणितीय मॉडल तैयार किया जिसे जटिल प्रणालियों को समझना आसान हुआ । उन्होंने परमाणु से लेकर ग्रहों के मानदंडों तक भौतिक प्रणालियों में विकार और उतार-चढ़ाव की परस्पर क्रिया की खोज की है ।

Nobel Prize in Chemistry 2021 ( रसायन विज्ञान के नोबेल पुरस्कार )

रसायन विज्ञान में साल 2021 के लिए नोबेल पुरस्कार ( Nobel Prize in Chemistry 2021) की घोषणा हो चुकी है । इस साल का नोबेल पुरस्कार जर्मनी के बेंजामिन लिस्ट और अमेरिका के डेविड मैकमिलन को दिया गया है ।
Nobel prize in chemistry 2021
Nobel prize in chemistry 2021
यह पुरस्कार दोनों को “एसिमैट्रिक ऑर्गेनकैटालिसस” के क्षेत्र में रिसर्च के लिए दिया गया है । जर्मनी के बेंजामिन लिस्ट और अमेरिका के डेविड मैकमिलन ने मॉलिक्यूलर कंस्ट्रक्शन के लिए एक सटीक और नया उपकरण विकसित किया है । लिस्ट और मैकमिलन ने 2000 में स्वतंत्र रूप से कैटेलिसिस का एक नया तरीका विकसित किया था ,जिसे “एसिमैट्रिक ऑर्गेनकैटालिसस” कहा जाता है । इसका निर्माण छोटे कार्बनिक अणुओं पर किया जाता है ।

Nobel Prize in Literature 2021(साहित्य के लिए नोबेल पुरस्कार 2021 )

ब्रिटेन में रहने वाले तंजानियाई लेखक अब्दुल रजाक गुरनाह का नाम गुरुवार को इस वर्ष के साहित्य के नोबेल पुरस्कार (Nobel Prize in Literature 2021) के विजेता के रूप में घोषित किया गया । अब्दुलरजाक को उपनिवेशवाद के प्रभावों और संस्कृतियों व महाद्वीपों के बीच की खाई में शरणार्थियों की स्थिति के करूणामय चित्रण को लेकर सम्मानित किया गया है । उनके उपन्यासों में शरणार्थियों का मार्मिक वर्णन मिलता है ।
Nobel prize in literature 2021
Nobel prize in literature 2021
अब्दुलरजाक के चौथे उपन्यास “पैराडाइज” ( 1994) ने एक लेखक के रूप में पहचान दिलाई थी । उन्होंने 1990 के आसपास पूर्वी अफ्रीका की एक शोध यात्रा के दौरान यही लिखी थी । यह एक दुखद प्रेम कहानी है जिसमें दुनिया और मान्यताएं एक दूसरे से टकराती है । अब्दुलरजाक गुरनाह अंग्रेजी भाषा में लिखते हैं । जांजीबार में जन्मे इंग्लैंड में रहने वाले अब्दुलरजाक यूनिवर्सिटी ऑफ केंट में प्रोफेसर है ।

Nobel Prize in Peace 2021(शांति का नोबेल पुरस्कार 2021)

फिलीपीन की पत्रकार मारिया रसा और रूसी पत्रकार दमित्री मुरातोव को शुक्रवार को 2021 का नोबेल शांति पुरस्कार (Nobel Prize in Peace 2021)देने की घोषणा की गई । इन पत्रकारों को यह पुरस्कार उन देशों में अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के वास्ते संघर्ष करने के लिए दिया गया है जहां पत्रकारों को लगातार हमलों एवं प्रताड़ना का सामना करना पड़ता है जिसमें उनकी हत्या तक कर दी जाती है ।
Nobel prize in peace 2021
Nobel prize in peace 2021
मारिया रसा :- 2012 में रसा द्वारा सह-संस्थापित समाचार वेबसाइट ‘रेपलर’ ने “दुतेर्ते (राष्ट्रपति रोड्रिगो ) शासन के विवादास्पद , जानलेवा नशीली दवाओं के विरुद्ध अभियान पर आलोचनात्मक दृष्टि से ध्यान केंद्रित किया है ।” उन्होंने यह भी साबित किया है कि कैसे फर्जी समाचारों के प्रचार, विरोधियों को परेशान करने और सार्वजनिक संवादों में हेरफेर करने के लिए सोशल मीडिया का उपयोग किया जा रहा है । रसा शांति का नोबेल पुरस्कार जीतने वाली फिलीपीन की पहली नागरिक एवं इस साल सम्मानित की जाने वाली पहली महिला है । दमित्री मुरातोव :- मुरातोव 1993 में स्वतंत्र रूसी समाचार पत्र नोवाया गजेटा के संस्थापकों में से एक है । सत्ता के प्रति मौलिक रूप से आलोचनात्मक रवैये के साथ, नोवाया गजेटा आज रूस में सबसे स्वतंत्र समाचार पत्र है ।

Nobel Prize in Economic 2021(अर्थशास्त्र के लिए नोबेल पुरस्कार 2021 )

अर्थशास्त्र के लिए साल 2021 का नोबेल पुरस्कार आधा डेविट कार्ड को जबकि आधा जोशुआ डी.एंग्रिस्ट और गुइडो डब्ल्यू इम्बेंल को संयुक्त रूप से दिया गया है ।
Nobel prize in economic 2021
Nobel prize in economic 2021
नोबेल समिति ने डेविड कार्ड को श्रम अर्थशास्त्र में उनके प्रयोग सिद्धि योगदान के लिए पुरस्कार का आधा हिस्सा दिया और दूसरा आधा संयुक्त रूप से जोशुआ डी.एंग्रिस्ट और गुइडो डब्ल्यू इम्बेंल को कारण संबंधों के विश्लेषण में उनके मेथाडोलॉजिकल योगदान के लिए दिया गया । नोबेल समिति के अनुसार तीनों अमेरिकी अर्थशास्त्रियों को अनपेक्षित प्रयोगों, या तथाकथित “प्राकृतिक प्रयोगो” से निष्कर्ष निकालने पर काम करने के लिए अर्थशास्त्र के 2021 के नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया है । इन्हें भी देखें :-

Leave a Reply

error: Content is protected !!
Scroll to Top